Saturday, May 18, 2024

खालसा कालेज फार वूमैन में हिंदी दिवस मनाया

अमृतसर, 14 सितंबर (पंजाब पोस्ट ब्यूरो) – खालसा कालेज फार वूमैन के परिसर में हिंदी विभाग की ओर से हिंदी दिवस के उपलक्ष्य में विशेष संगोष्ठी विषय हिंदी आज और कल का आयोजन किया गया। कार्यक्रम का शुभारंभ मुख्य मेहमान लेखिका, आलोचक, साहित्यकार डा. मधु संधू पूर्व प्रो. एवं अध्यक्ष हिंदी विभाग गुरु नानक देव विश्वविद्यालय अमृतसर प्राचार्य डा. सुरिंदर कौर, विभागाध्यक्ष डा. चंचल बाला द्वारा शमां रोशन करके किया गया।

डा. मधु संधू ने अपने संभाषण में हिंदी पर विशेष बल देते हुए कहा कि आज हिंदी कंप्यूटर, मोबाइल, इंटरनेट की भाषा है। विकीपीडिया, सोशल मीडिया ने इसका सहज प्रसार किया है। हिंदी भाषा नहीं संस्कृति है। ऐसी सांस्कृतिक भाषा को आक्सफोड़ अंग्रेजी शब्दकोष ने शब्दों का अनुवाद न करके उन्हें ज्यों और निर्वाण आदि। अपने वक्तव्य में हिंदी के गौरव की बात करते हुए कहा कि हिंदी सिनेमा की साफ्ट ग्लोबल पावर ने वैश्विक युवा पीढ़ी में लोकप्रियता दी आैर वेब पत्रकारिता ने इसे विस्तार दिया है। दूरदर्शन विज्ञापन, वाणिज्य ने इसकी अनिवार्यता को समझा है। उन्होंने कहा कि आज हिंदी अपनी क्षमता से भारत और विश्व में गौरव अर्जित कर रही है। प्राचार्य डा. सुरिंदर कौर ने मुख्य मेहमान का स्वागत करते हुए कहा कि हमें आज बहुत गर्व महसूस हो रहा कि हम हिंदी दिवस मना रहे है। क्योंकि पूरे भारत वर्ष में कई दशकों से हिंदी दिवस मनाने की परंपरा चली आ रही है। उन्होंने अपने संभाषण में कहा कि वर्तमान समय में हिंदी भाषा पूरे विश्व में तीसरी सबसे अधिक बोली जाने वाली भाषा है। इससे यह मालूम चलता है कि हिंदी कितनी प्रचलित और प्रतिष्ठित भाषा है। देश में एकता लाने और हर किसी को एकजुट करने के लिए हिंदी दिवस बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। इस अवसर पर हिंदी विभाग की छात्राओं में लेख प्रतियोगिता, कविता प्रतियोगिता, वाक्य रचना, भाषण प्रतियोगिता का आयोजन किया गया।भाषण प्रतियोगिता में बीए प्रथम की सलेशा प्रथम रही। सुमन ने दूसरा स्थान प्राप्त किया। कविता प्रतियोगिता में लगभग बीस छात्राओं ने भाग लिया। बीए पंचम सत्र की मुस्कान ने पहला स्थान प्राप्त किया। रुपिंदर कौर बीए पंचम ने द्वितीय और मुस्कान ने तीसरा स्थान प्राप्त किया। वाक्य रचना में रीतिका बीए प्रथम सत्र ने प्रथम स्थान, सिमरन भंडारी ने दूसरा और पुश्पा बीए पंचम सत्र ने तीसरा स्थान हासिल किया।

बीए प्रथम सत्र की कोमिका ने कविता प्रतियोगिता में तीसरा स्थान पाया। हिंदी विभाग की अध्यक्ष डा. चंचल बाला ने मुख्य मेहमान का स्वागत करते हुए छात्राओं को हिंदी दिवस की बधाई दी और कहा कि एक राज्य भाषा मुख्य रूप से भारत के केंद्र सरकार की भाषा को दर्शाता है। भाषा की दृष्टि से हर भाषा महत्वपूर्ण है। हालांकि बीते कुछ सालों में इंटरनेट का युग शुरू होने की वजह से हिंदी भाषा का इस्तेमाल काफी तीव्रता से बड़ा है और लोग हिंदी साहित्य की तरफ बढ़ रहे है। उन्होंने हिंदी के महत्व और प्रचार की बात करते हुए कहा कि आज वैश्विक स्तर पर हिंदी अपनी पहचान और प्रतिष्ठा पाने में पूरी तरह सफल हो गई है। कार्यक्रम में निर्णायक की भूमिका श्रीमती कमलजीत कौर फाइन आर्ट्स अध्यक्ष, मिसेज शरीना अध्यक्ष फैशन डिजाइनिंग, डा. प्रदीप कौर प्रोफेसर पंजाबी विभाग ने निभाई। अंत में मुख्य मेहमान की ओर से विजेताओं को पुरस्कार वितरित किए गए।

इस अवसर पर मिसेज रविंदर कोर अध्यक्ष पंजाबी विभाग, मिसेज मनबीर कौर अध्यक्ष गणित विभाग, डा. सुमन नैयर, अध्यक्ष कामर्स विभाग और अन्य सभी प्राध्यापक शामिल हुए।

Check Also

विभाजन विभीषिका स्मृति दिवस फिल्म स्क्रीनिंग संपन्न

अमृतसर, 14 सितंबर (पंजाब पोस्ट ब्यूरो) – विभाजन विभीषिका स्मृति दिवस के आयोजनों की कड़ी …